अन्ना हजारे जी, आप बहुत सोच समझ कर अनशन पर बैठें, कहीं ऐसा न हो कि आपकी मुहिम की हवा निकल जाये /


अन्ना हजारे का मै बहुत सम्मान करता हूं / निश्चय ही उनकी चलायी गयी मुहिम से मै सहमत हू जैसा कि इस देश के दूसरे लोग उनका समर्थन कर रहे है /

लेकिन , मुझे शक है कि अन्ना हजारे की इस मुहिम को कहीं तगडा झटका न लग जाये / जिसकी मुझे बहुत बड़ी आशन्का लगती है / इसके बहुत से कारण हैं और वे क्या हैं , यह मै उनको बताना चाहता हू /

१- सबसे पहले इस देश के नागरिकों की मानसिकता को लीजिये / इस देश का हर नागरिक चाहता है कि भ्रष्टाचार खतम हो लेकिन दूसरी तरफ वह खुद ही भ्रष्टाचार में लिप्त है / वह चाहता है कि उसे टैक्स चोरी करने दिया जाय, बिजली की चोरी करने दी जाय / सरकार के जितना चूना लगा सको उतना अधिक से अधिक सरकार के चूना लगाने की स्वतन्त्रता दी जाय / सरकारी योजनाओं का पैसा कैसे हड़पा जाये ऐसी स्कीम सोची जाय /

 
२- इस देश का नागरिक सोचता है कि “भगत सिंह” और “चन्द्रशेखर” जैसे शहीद उनके घर में न पैदा हों / अगर पैदा हों तो उनके पड़ोस में पैदा हों / ऐसे लोग चाहते है कि उनके घर में “हर्षद मेहता” और “सुरेश कल्माड़ी” जैसे पैदा हों /

३- इस देश का युवा तो महा भ्रष्ट है / अन्ना जी आप सम्भल कर और सोच विचार कर भरोसा करियेगा / ये आज की युवा पीढी आपकी फजीहत करा कर दम लेगी / पहले तो ये आपके लिये ऐसा तम्बू तानेन्गे कि आपको लगेगा कि “हां, ये हमारे देश के नवजवान हैं और बड़े ही कर्मठ और sincere यवा पीढी है” / ये आपका तम्बू सातवें आसमान तक ले जायेन्गे और बाद में

यही सब नौजवान, जो आज आपके पीछे चलने के लिये छाती ठोन्ककर और सीना फुलाकर , कदम से कदम मिलाकर चलने का वादा कर रहे है, यही नौजवान आपको सातवें आसमान पर आपका तम्बू तानकर थोड़ा रुकेन्गे  और फिर मौके का फायदा उठाते हुये आपके “तम्बू के चारों बम्बू” उखाड़्कर चारों दिशाओं में लेकर भाग जायेन्गे / आप जब तक सम्भलेन्गे, तब तक आप धड़ाम होकर जमीन पर आ जायेन्गे, फिर कोई भी आपका हाल चाल तक पूछने नहीं आयेगा कि “अब आप कैसे हैं ?

४- इस देश की जनता तो सबसे निराली और अजूबे किस्म की है / आपने “सोडा वाटर” की बोतल जरूर देखी होगी / “सोडा वाटर” की बोतल का ढक्कन जब खुलता है, तो बहुत तेजी के साथ झाग युक्त जोश भरा पानी गैस के साथ बाहर निकलता है / इस देश की जनता का मिजाज बिल्कुल “सोडा वाटरी जोश” जैसा है / यानी खुलासा यह कि इस देश की जनता के सामने जब कोई मुद्दा आता है तो उसका प्रतिक्रिया व्यक्त करने का जोश ठीक सोडावाटर जैसा होता है / बाद में जैसे सोडावाटर की गैस खतम होकर बचा पानी हिलता तक नहीं, ठीक यही हालत इस देश की जनता की मानसिकता की है /
 
५- इस देश की जनता SLOGAN MINDED  है / स्लोगन माइन्डेड यानी नारों के पीछे भागने वाली / कैसे ? इस देश के नेताओं द्वारा दिये गये नारों के पिछले अतीत और इतिहास को देखिये / “गरीबी हटाओ” , “समाजवाद आयेगा , पून्जीवाद जायेगा” , “सब्को देखा बार बार, हमको देखो एक बार”  जैसे नारे आपने भी झेले होन्गे / इस देश की जनता को नारे बहुत लुभाते है / जिस देश की जन्ता नारों में ही बह जाये , उस देश की जन्ता  पर आप किस तरह का और क्या भरोसा करेन्गे ? इस देश की जन्ता अपनी सोच और राय पल पल में  बदलती है / कही ऐसा न हो, आज सभी आपके साथ भ्रष्टाचार मिटाने के लिये कदम ताल के साथ खड़े हो जायें और कल ही आपका साथ छोड़्कर भाग खड़े हों / देश की जन्ता मेरे हिसाब से भरोसे लायक नहीं है /

६- आपकी भ्रष्टाचार समाप्त करने की मुहिम आज के वर्तमान में लोगॊं को , इस देश की जनता को बहुत लुभावनी लग रही है और आकर्षक लग रही है / लेकिन जैसे जैसे इस मुहिम के चलने से इस देश की जनता को यह लगने लगेगा कि भ्रष्टाचार के खतम होने से उनको ही खतरा पैदा होवेगा और उन्के लिये मुश्किलें बढा देगा तो जो लोग आज आपका साथ दे रहे है , वे भी पीछे हट जायेन्गे और इस तरह से आपकी मुहिम की हवा निकल जायेगी /

बहुत सी बाते है जिनका मनन दूर दूर तक करना बहुत जरूरी है / मेरि आपको यही सलाह है कि आप अपना १६ अगस्त २०११ से शुरू करने वाले अन्शन का विचार एक्दम त्याग दें /

अब आप क्या करें ?

पहला ; आप सारे देश का दौरा करके इस देश के नागरिकों को समझाइये कि भ्रष्टाचार से उनको और उनकी आने वाली पीढियों को क्या क्या नुकसान है ? भ्रष्टाचार न होने से क्या क्या फायदा है ?

दूसरा ; जनमत बनाइये और इतना मजबूत बनाइये कि कोई भी सरकार हो, वह भ्रष्टाचार को दूर करके ही दम ले / एक बात याद रखियेगा कि भ्रष्टाचार को कम किया जा सकता है, इसे जड़्मूल से खतम नहीं किया जा सकता /

कहने को तो बहुत है , लेकिन मै आखिर में आपसे यही कहून्गा कि १६ अगस्त २०११ को अनशन शुरू करने से पहले अच्छी तरह से हजारों बार दिल दिमाग से सोच विचार कर लें और तब अनशन शुरू करें / 

 

एक टिप्पणी

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s