shayad pakistan ko pata nahi hai ki kashmir ke bare me un resolution hai kya ? शायद पाकिस्तान को पता नही है कि काश्मीर के बारे मे युनाइटेड नेशन्स का रिजोल्यूशन है क्या ?

shayad pakistan ko pata nahi hai ki kashmir ke bare me un resolution hai kya ?
mai batata hu ki yah kya hai pakistani bhi jan le ‘
un resolution me kaha gaya hai aur yah shart lagai hai ki
pahali shart yah hai ; ki bharat apani limited sankhya me sena kashmir me rakhe
dusara yah ki pakistan apane us hisse ko khali kare jis par usane kabja kiya hua hai aur jise vah azad kashmir kahata hai
tisari shart yah hai ki jab upar ki dono sharte puri ho jaye tab vaha par janamat sangrah karaye jay
indira gandhi ne miya bhutto ke saath shimala samajhauta me yah mana ki yah do paksho ka masala hai aur ise do paksh hi nipatayenge
mamala yaha phasata hai ki pakistan un resolution ki dusari shart ko pura nahi kar raha hai isaliye baaki ki bat aage nahi badh pati hai
pakistan shimala samajhaute ko bhi nahi man raha hai isaliye bat aage nahi badh pa rahe hai
pakistan shimala samajhaute ko chchodakar jump over karake phir pichche pahuch jate hai aur un resolution ki baat karane lagata hai
mushkil yah hai ki pakistan me kis sarakar se baat ki jaaye vaha tin sarakare hai jo desh chala rahi hai
ek is resolution ko vaha ki sena nahi manati hai
dusare vaha ki chuni sarakar agar bat karati hai to sena adanga laga deti hai
tisarai ISI hai jo apani sarakar atankvadiyo ke bal par chala rahi hai
pakistan buniyadi bato par bat nahi karata hai vah marakaz se bhagta hai
yahi sabase badi paksitan ki kamajori hai

भारत का मीडीया और पाकिस्तान का मीडिया इन सब पर चर्चा नही करता कि पेन्च कहा कहा जाकर फस्ता है / दोनो मुल्क के लोग बिलावजह काश्मीर को अपने मन मुताबिक अप्ननी सूझ बूझ के अनुसार तथ्यो को तोड़ मरोड़ कर  ऐसा समझते है / दोनो देशो के लोगो को  इस तरह के फन्से हुये पेन्च को समझना चाहिये कि काश्मीर की समस्या मे दोनो देश किस तरह से मामले को सुलझाने के लिये अड़न्गा डाल रहे है /

मिया भुट्टो ने शिमला समझौता किया जिसमे दोनो पक्षो को मामला सुलझाने का जिक्रा किय गया है / इसमे किसी तीसरे पक्ष को शामिल नही करने का समझौता हुआ है लेकिन पाकिस्ता तीसरे पक्ष यानी काश्मीर के अलगाव वादियो को भी इसमे शामिल करती है / कान्ग्रेस की सरकारो ने ऐसा भूत काल मे किया है लेकिन नरेन्द्र मोदी की सरकार ने इसे नही माना और कहा है कि अलगाव्वादी इस तरह की बात्चीत मे नही शामिल किये जायेन्गे / लेकिन पाकिस्तान अलगाव वादियो को भी इसमे शामिल करना चाहता है / यह सब करा धरा कान्ग्रेस की सरकारो का है जिसकी लेथन मोदी को उठानी पड़ रही है /

भारत का मीडिया इस पर बहस नही करता है और काश्मीर की समस्या को भी नागरिको को समझाने का प्रयास बहुत कमजोर स्तिथि का है /

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s